Categories
मेरी नज़्म

एक मुलाक़ात की इल्तजा है

एक मुलाक़ात की इल्तजा है
उससे दुआ है
वह क्यों नहीं मिलता मुझसे
उसे क्या शुबा है
मुझ मुरीद को न क़रार है
यह क्या धुँआ है
साँस बदन से जुदा-जुदा है
मुझे क्या हुआ है
मैं जिसके लिए मरना चाहता हूँ
वो मेरा खु़दा है
सनम मेरा गुले-सुम्बुल है
वो दिलरुबा है


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००५

By Vinay Prajapati

Vinay Prajapati 'Nazar' is a Hindi-Urdu poet who belongs to city of tahzeeb Lucknow. By profession he is a fashion technocrat and alumni of India's premier fashion institute 'NIFT'.

2 replies on “एक मुलाक़ात की इल्तजा है”

Leave a Reply to विनय Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *