Categories
मेरी ग़ज़ल

झोंके हवा के उसका रूख़सार चूमते हैं

झोंके हवा के उसका रूख़सार चूमते हैं
फूल उसकी आँखों को देख यार झूमते हैं

तेरे हुस्नो-शबाब के बारे क्या कहूँ मैं
तेरे आगे-पीछे दीवाने हज़ार घूमते हैं

तेरी लटें उड़ती हैं किस अदा के साथ
देखकर आशिक़ अपना निगार भूलते हैं

नयी तपिश नयी तमन्ना नयी ख़ाहिश
हम ‘नज़र’ इन में बे-क़रार डूबते हैं

—-
निगार: प्रेमी, प्रेमी की तस्वीर


शायिर: विनय प्रजापति ‘नज़र’
लेखन वर्ष: २००४

By Vinay Prajapati

Vinay Prajapati 'Nazar' is a Hindi-Urdu poet who belongs to city of tahzeeb Lucknow. By profession he is a fashion technocrat and alumni of India's premier fashion institute 'NIFT'.

6 replies on “झोंके हवा के उसका रूख़सार चूमते हैं”

डूबते रहो नज़र साहब अगर डूब गए तो पार जरुर निकलोगे…आपको तो पता ही है ये बात …मुमकिन है डूब जावो ,मुक्कमल निकल जावोगे…

अर्श

andjen bayan to aapka bhi kasoor ,
labjoko najakat se istemaal karke,
bahut kammen bahut kuchh ,
kah jaate aapke ye shabd

अपना प्रेम व स्नेह बनाये रखें इसी कामना के साथ आपका सहृदय धन्यवाद!

Hai vinay ji good noon,

Thanks 4 ur msg. or hain mein use sayari ka matlab aap ko nai samjha sakti, or ha mujhe puchna hai ke hindi font kaise use kare apni side mein, mere roman hindi bhi week hai na that’s way. plz bata dena, hindi font select kiya par ho nahi raha hai.

some lines:-

“PYAR HAR GHARI HUM JATA NAHI SAKTEY,
AAP KE OR KAREEB HUM AA NAHI SAKTEY,
KHUD KI KHWAHISO KO ROKNA PADTA HAI US LAMHA,
JO APNI ZINDAGI ME HUM LA NAHI SAKTEY”.

Manju”Mahiraj”

Leave a Reply to preeti tailor Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *